Harley Davidson ने करवाया शोध; बाइक चलाने से खत्म होता है शोक

रिसर्च में हुआ खुलासा- चाहे जाये जिम या करें राइडिंग- हेल्थ हो जायेगी फाइन.

लोग तनाव से निजात पाने के लिए क्या-क्या नहीं करते. पर आपको ज्यादा जहमत उठाने की जरूरत नहीं है; बस बाइक लेकर निकल जाइये और तनाव को दूर भगाइये. क्योंकि UCLA के Semel Institute for Neuroscience and Human Behavior की एक स्टडी में ये साबित किया जा चुका है कि बाइक चलाने से ‘feel good’ हार्मोंस में वृद्धि होती है जो मूड अच्छा बनाते हैं और तकलीफ कम करते हैं. इस इंस्टिट्यूट को Harley Davidson ने फंड किया है. इस बात को तब प्रमाणित किया गया जब बाइकर्स के एक ग्रुप को 22 मील तक ड्राइव करवाने के बाद उनके मूड का विश्लेषण किया गया.

अब आपको लगेगा इसमें क्या साइंटिफिक है?? इन राइडर्स को mobile electroencephalogram (EEG) नामक एक शावर कैप जैसा डिवाइस पहनाया गया; जो कि electrodes से लैस है और ब्रेन की इलेक्ट्रल एक्टिविटी पता लगाते हैं. राइड पर जाने से पहले इन राइडर्स की माइंड की एक्टिविटी और हार्मोन लेवल की मॉनिटरिंग की गई.

राइड से पहले, राइड के दौरान और बाद की मानसिक स्थिति और हार्मोन लेवल के बारे में चौंकाने वाले खुलासे हुए. adrenaline, noradrenaline और cortisol के लेवल को रिकॉर्ड किया गया. जहाँ adrenaline levels व heart rate बढ़ी वहीँ cortisol में कमी देखी गई. 50 से ज्यादा लोगों के ग्रुप की ब्रेन एक्टिविटी कार ड्राइव करने, बाइक चलाने और रेस्ट करने के बाद रिकॉर्ड की गई.

बाइक चलाने से 28 पर्सेंट तक स्ट्रेस कम हुआ. 11 पर्सेंट तक हार्ट रेट बढ़ी, adrenaline levels 27 पर्सेंट तक बढ़ा जो कि जिम में हल्की एक्सरसाइज के बाद होता है. अगर sensory focus की बात करें तो बाइक चलाने वालों में ये ज्यादा बेहतर नजर आया.

अगर आपको इस बारे में विस्तृत जानकारी चाहिए तो साल के अंत में आने वाली ‘The Mental and Physical Effects of Riding a Motorcycle’ नामक रिपोर्ट अवश्य पढिये. Harley Davidson को उम्मीद है कि इस प्रकार के खुलासे से राइडर्स अपनी हेल्थ, फिटनेस और मानसिक क्षमता में इजाफा करेंगे.