मुद्दा एक पर विचार अनेक – टू वीलर GST rate पर काफी भिन्न सोच हैं Bajaj और Hero की

एक ने सराहा तो दूसरे ने नकारा. अपनी ढपली- अपना राग.

जबसे mass use items की टैक्स रेट घटी है इस पर चर्चा का दौर हर ओर जारी है. भारत के टू वीलर मार्केट की दो दिग्गज कम्पनियों, Hero Motocorp और Bajaj Auto भी इस बारे में अलग राय इत्तेफाक रखते हैं.

चलिये पहले विश्लेषण करते हैं कि इस विषय पर Hero Motocorp के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर, पवन मुंजाल की क्या राय है. उनके अनुसार भारत जैसे देश में जहाँ ज्यादातर लोग अपने रोजमर्रा के काम के लिए बाइक्स व स्कूटर्स का बहुतायत से इस्तेमाल करते हैं वहां GST का 28% से 18% किया जाना एक स्वागतयोग्य निर्णय है. इससे न सिर्फ कस्टमर्स बल्कि इस पूरे सेक्टर को फायदा होगा.

अब जब ऑटो सेक्टर की ग्रोथ बढ़ेगी तो ये इकॉनोमिक ग्रोथ को भी पुष्ट करेगी. अब उनका ये कहना प्रासंगिक ही है क्योंकि Hero Motocorp की दिसम्बर माह की सेल्स में 4% की गिरावट दर्ज हुई है.

अब 453,985 यूनिट्स की गिरावट के दौर में ये निर्णय मरुस्थल पर पानी बरसने जैसा है. सालों तक टू वीलर सेक्टर के बेताज बादशाह रहने वाले इस दिग्गज ने अपनी गिरावट के प्रमुख कारणों में टू वीलर इंश्योरेंस की बढ़ी कीमत और liquidity crunch को शुमार किया है.

Bajaj Auto के मैनेजिंग डायरेक्टर, राजीव बजाज के विचार इसके बिल्कुल विपरीत हैं. उन्हें नहीं लगता कि GST rate cut से टू वीलर्स की बिक्री में बढ़ोतरी होगी. उन्होंने स्पोर्ट्स बाइक सेगमेंट की Pulsar brand का उदहारण देते हुए कहा कि, “इस सेगमेंट के प्रोडक्ट्स का दाम 50 परसेंट तक बढ़ गया है फिर भी लोग इसे खरीद रहे हैं. इसी तरह 10 परसेंट GST का घटना कोई चमत्कार थोड़े ही करेगा.”

बेहतर होगा कि रियायत की उम्मीद लगाने के बजाय हम अपने प्रोडक्ट्स की गुणवत्ता बढ़ाने पर ध्यान दें. अब जब Bajaj Auto ने दिसम्बर 2018 में 39% की ग्रोथ दर्ज करवाई है तो उनका आत्मविश्वास से लबरेज होना लाजिमी ही है.

Bajaj की निगाहें तो अपनी सभी बाइक्स को नये safety norms से लैस करने पर लगी हैं जो 1 अप्रेल 2019 से लागू होंगे. उन्होंने तो यहाँ तक कह दिया कि इस तरह जल्दबाजी में घोषित किया गया duty cut सेल्स के लिए नुकसानदायक रहेगा.