अब चाहे Hyundai Creta लें या Verna, i20, Santro, Grand i10 – लीजिंग के फायदे अनेक

न डाउनपेमेंट, न मेंटेनेंस, न ही इंश्योरेंस; फिर भी अपनी गाड़ी का मजा लें हर रोज

अगर आप कार खरीदने, मेंटेन करने का झंझट नहीं पालना चाहते हैं तो लीजिंग आपके लिये सर्वश्रेष्ठ विकल्प है. हाल ही में कई प्रसिद्ध कम्पनियाँ इस क्षेत्र में उतर रही है. इन्हीं में से एक नाम Hyundai Motors India Ltd. का है जिन्होंने ALD Automotive के साथ मिलकर इस स्कीम को शुरू करने की घोषणा की है. आपकी जानकारी के लिये हम बता दें कि ALD Automotive ऑटोमोटिव लीजिंग व फ्लीट मैनेजमेंट का एक जाना-माना नाम है. अगर आप बैंगलोर, मुंबई, दिल्ली, हैदराबाद, चेन्नई के निवासी है तो आपको ये विकल्प उपलब्ध है.

हालाँकि Hyundai India ने संख्या का खुलासा तो नहीं किया है पर अपने लीजिंग प्लान को बेहद उम्दा बताते हुए मंथली रेंटल को भी किफायती करार दिया है. इस स्कीम की सबसे खास बात ये है कि आपको न तो डाउन पेमेंट देना होगा न ही कोई फाइनेंसियल रिस्क होगी. साथ ही आप बेहतर tax management, easy upgradation और मानसिक शांति का आनंद ले सकेंगे क्योंकि इसी कॉस्ट में मेंटेनेंस व इंश्योरेंस का खर्च भी सम्मिलित है.

आप किस शहर से है और कौनसा मॉडल चुनते हैं – इस आधार पर आपको 2 और 5 साल के लिये लीजिंग का आप्शन मिलेगा. Hyundai Motor India के सेल्स व मार्केटिंग के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर, Mr. S.J. Ha ने लीजिंग को भारत के अनुकूल करार दिया.

अभी तक लीजिंग स्कीम के तहत भारत में मात्र 1% कार्स का ही इस्तेमाल हो रहा है. विकसित देशों में लोग लोन लेकर कार खरीदने से बेहतर लीजिंग को मानते है. वहां ये प्रतिशत 45 से भी ज्यादा है.

Hyundai India ने इस स्कीम के तहत नौकरीपेशा, छोटे व मध्यम व्यवसायी, पब्लिक सेक्टर व कॉरपोरेट्स को टारगेट कस्टमर्स माना है. युवावर्ग तो निसंदेह लक्ष्य है ही क्योंकि उन्हें नये एक्सपेरिमेंट करना भाता है. इसी उम्मीद से ये आशा भी जागी है कि आने वाले समय में फोरवीलर्स की सेल्स बढ़ेगी.

आगामी क्रेश टेस्ट स्टैण्डर्ड व एमिशन नॉर्म्स के चलते भारत में व्हीकल्स की कीमतों में बढ़ोतरी भी निश्चित है. कार लोन स्कीम्स तो बदलेगी नहीं इसलिए डाउनपेमेंट और ज्यादा हो जायेगा. इसलिए प्रबल संभावना है कि शहरी कस्टमर्स लीजिंग को ही ज्यादा महत्व दें.