अब रोड पर फिक्स हुई LED traffic lights करेगी ट्रैफिक सिग्नल जानने में सहयोग

एक अच्छी पहल की शुरुआत; सुरक्षा मिलेगी अपार

ट्रैफिक रूल्स तोड़ने वालों के पास खुद को सही साबित करने के कई बहाने होते है. ‘तू डाल-डाल मैं पात-पात’ की तर्ज पर इनका तोड़ भी संभव है. अब इस बात से ही आप समझ जाइये कि ज्यादातर लोग ट्रैफिक सिग्नल तोड़ने पर ट्रैफिक लाइट न दिखने का बहाना गढ़ लेते हैं. बतौर प्रयोग हैदराबाद की ट्रैफिक पुलिस ने KBR Park junction वाली रोड पर नए LED स्पीड ब्रेकर्स लगवाये हैं जो ऑटोमेटिक ट्रैफिक सिग्नल के साथ ग्रीन व रेड हो जायेंगे. फिर क्या बहाना ऑफेंडर्स बनायेंगे?

हालाँकि अभी ये एक्सपेरिमेंट एक जगह ही किया जा रहा है पर इससे रोड सेफ्टी बेहतर होती नजर आ रही है. अब कोई भी बहाना नहीं बना पायेगा.

जैसे रोड पर cat eye reflector होते हैं वैसे ही LED lights भी embed की गई है. ये वाटरप्रूफ है इसलिए बारिश का कोई दुष्प्रभाव इस पर नहीं होगा.

ट्रैफिक पुलिस इंस्पेक्टर, M Narsing Rao का कहना है की ये एक्सपेरिमेंट सफल रहता है तो पूरे शहर में ये LED स्पीड ब्रेकर्स इंस्टाल किये जायेंगे. दूर से भी ये LED lights signals रेड या ग्रीन होना दर्शा देंगे. इससे ऑफेंडर्स पर तो अंकुश रहेगा ही राहगीरों को भी आसानी हो जायेगी. उन्हें बार-बार ट्रैफिक सिग्नल की ओर ताकना नहीं पड़ेगा. वे आसानी से बेझिझक सड़क पार कर पायेंगे. आधा मिनट पहले ही गाड़ी को आगे लाने वाले जल्दबाज भी नियंत्रण में रहेंगे.

अगर ट्रैफिक सिग्नल्स किसी होर्डिंग, बड़े व्हीकल या पेड़ की वजह से ब्लर है तो भी राइडर को पोजीशन जानने में तकलीफ नहीं होगी और वो सही जगह स्लो कर पायेंगे.

ये LED स्पीड ब्रेकर्स traffic signal box के आउटपुट से कनेक्ट रहते हैं और ट्रैफिक लाइट्स के साथ ही कलर बदलते हैं. अगर ये परीक्षण सफल रहा तो हैदराबाद ही नहीं बल्कि पूरे भारत में इसे अपनाया जा सकता है.