अप्रैल 2020 से Maruti डीजल कार्स होगी गायब; 1.3 L, 1.5 L – दोनों पर गिरी गाज

Maruti Suzuki India का दूरदर्शी कदम; आधिकारिक घोषणा से सब हैरान

Maruti Suzuki India किसी परिचय की मोहताज नहीं है. भारत के इस सबसे बड़े कार निर्माता ने हाल ही में अपने एक आधिकारिक बयान से सबको चौंका दिया है. उन्होंने अपनी सभी डीजल पॉवर वाली कार्स को डिसकंटीन्यू करने का फैसला किया है. आपको लग रहा होगा इसमें हालिया लाँन्च हुई 1.5 liter डीजल इंजन शामिल नहीं है पर आपका अंदाज गलत है.

कंपनी ने काफी दूरदर्शिता भरा निर्णय लिया है. अप्रेल 2020 से भारत में BS VI emission standards लागू हो जायेंगे. इससे डीजल कार्स की कीमत काफी बढ़ जाएगी. वर्तमान में BS IV पेट्रोल व डीजल कार्स की कीमतों में Rs.80,000-Rs.1.5 lakhs तक का अंतर है जो BS VI पेट्रोल व डीजल में Rs.2.5 lakhs तक का हो सकता है. इस तरह डीजल कार्स की डिमांड कम होने के पूरे आसार हैं.

क्योंकि अब Maruti ने अपने 1.3 liter डीजल इंजन को अप्रैल 2020 से हटाने का फैसला कर लिया है तो इनकी DZire, Baleno व Vitara Brezza जैसे मॉडल्स जिन्हें Fiat 1.3 liter multijet डीजल इंजन से पॉवर किया गया है; इस साल से निर्मित नहीं की जायेगी.

यहाँ तक कि 1.5 liter डीजल इंजन वाली Ciaz भी डिसकंटीन्यू हो जाएगी.

तो अब ये स्पष्ट हो गया कि क्यों कंपनी ने Rs 1,000 crore की लागत का नया 1.5 liter डीजल इंजन डवलप किया. इनका उद्देश्य इस डीजल इंजन को Ciaz, Ertiga, Brezza, S-Cross, Baleno के लिये रीप्लेसमेंट इंजन के रूप में इस्तेमाल करने का था. पर अब तो Maruti ने अप्रैल 2020 से डीजल इंजन वाली कार्स की बिक्री न करने की घोषणा कर दी है.

Maruti Suzuki India के चेयरमैन, Mr R C Bhargava ने सारी योजना पर प्रकाश डालते हुए बताया कि 2022 तक उनका लक्ष्य Corporate Average Fuel Efficiency norms व CNG vehicles का हायर शेयर पाना है ताकि सबकुछ नॉर्म्स के अनुकूल हो सके. उन्होंने CNG व्हीकल्स का मार्केट डवलप करने में यूनियन गवर्नमेंट की सहायता की अपेक्षा भी जताई.

BS VI डीजल इंजन के आने से कार की कीमत 17-20 percent तक बढ़ सकती है. Maruti Suzuki को सबसे बेहतर विकल्प यही लगा कि वे डीजल इंजन को ही डिसकंटीन्यू कर दें.

अभी अप्रैल 2020 की डेडलाइन में एक साल बाकी है पर डीजल कार्स का शेयर पिछले 9 महीनों में 20% तक कम हुआ है. Society of Indian Automobile Manufacturers (SIAM) के डेटा के अनुसार भारत में पेट्रोल कार्स का शेयर FY14 से लेकर FY18 तक 47 से 60 परसेंट तक बढ़ा है. वहीँ दूसरी ओर डीजल कार्स का शेयर 53 से 47% तक घटा है.

मांग में कमी आते ही Maruti ने अपने एक प्लांट पर तो डीजल इंजन का प्रोडक्शन बंद ही कर दिया है. भावी में Maruti का सारा ध्यान पेट्रोल, हाइब्रिड, CNG व electric vehicles पर ही रहेगा.