अगर ओनर ने नहीं दी EMI तो Revolt electric motorcycle की होगी जब्ती

Revolt करने वाले है भारत को इलेक्ट्रिक व्हीकल्स के मामले में मालामाल

Revolt Intellicorp ने भारत की पहली इलेक्ट्रिक कम्यूटर बाइक्स पेश करते हुए इसके साथ MRP (My Revolt Plan) यूनिक रीटेल प्लान भी पेश किया है. बाइक तक सबकी आसान पहुँच बनाने के लिए ये यूनिक रीटेल प्लान लाँन्च किया गया है.

MRP का अर्थ जानने के लिए आप निसंदेह उत्सुक होंगे. ये न तो लीज है या न ही रेंटल प्लान है. इस EMI स्कीम में मेंटेनेंस व कन्ज्यूमेबल कॉस्ट शामिल है. तो अब ये तय रहा कि Revolt RV300 व RV400 आपको डाउन पेमेंट किये बिना MRP द्वारा मिल जायेगी.

अभी तक तो ये नियम था कि कोई भी पूरी रकम अदा किये बिना इस बाइक को नहीं खरीद सकता था. लेकिन अब फाउंडर ने स्पष्ट किया है कि कस्टमर्स के फीडबैक के आधार पर स्थितियाँ बदली जा सकती है.

MRP के तहत RV300 के लिए INR 2,999, RV400 base के लिए 3,499 व RV400 premium के लिए 3,999 की EMIs 37 महीनों में अदा करनी होगी. कस्टमर्स की योग्यता जांचने के लिए कंपनी उनकी आर्थिक स्थिति का अवलोकन कर सकती है. अगर ओनर इंस्टालमेंट नहीं दे पाता है तो Revolt गवर्नमेंट द्वारा निर्धारित नियमों के अनुसार व्हीकल को रीकवर करेंगे.

सरकारी नियमों के अनुसार कस्टमर द्वारा इनस्टॉलमेंट न दिये जाने पर उसे एक महीने में पहला नोटिस दिया जायेगा. किसी भी औपचारिकता से पहले दूसरा नोटिस देना होगा. Revolt के फाउंडर; राहुल शर्मा के अनुसार व्हीकल को जब्त करने से पहले कम्पनी कस्टमर से पेमेंट के मामले को सुलझाने के लिए कई बार बात करेगी.

अगर Revolt ओनर प्रतिमाह पेमेंट करने में नाकामयाब रहता है तो कंपनी कॉन्ट्रैक्ट रद्द करने के लिए स्वतंत्र है.

हालाँकि इस यूनिक ओनरशिप प्लान में ओरिजिनल इक्विपमेंट मेंयुफेक्चरर को ample liquidity रखने की जरूरत है. फ़िलहाल तो नये-पुराने सभी OEMs की निगाहें Revolt के MRP पर टिकी है.

फ़िलहाल Revolt electric बाइक्स की पहुँच केवल नई दिल्ली व पुणे तक ही है पर निकट भविष्य में ये सभी प्रमुख शहरों में अपना दायरा बढ़ाने वाले हैं. इसकी अच्छी डिमांड से कंपनी काफी खुश है. नवम्बर 2019 तक Revolt electric बाइक्स बिक चुकी हैं. हाल ही में इसके आगामी लाँन्च होने वाले प्रीमियम इलेक्ट्रिक Cafe Racer को प्रचारित किया जा रहा है.