Volkswagen की सेल्स का गिरा ग्राफ – कस्टमर्स को लुभाने का ये अनूठा अंदाज

Volkswagen की सेल्स का गिरा ग्राफ; कस्टमर्स को लुभाने का ये अनूठा अंदाज.

अब पाइये Polo, Vento व Ameo जैसे विख्यात मॉडल्स पर भी 24% से 44% तक घटी हुई सर्विस कोस्ट. 2018 ने जिस तरह Volkswagen India को कटु अनुभव दिये और उनकी सेल्स में 22.9% तक की गिरावट आई है, उसे वे एक बुरे सपने की तरह भूल जाना ही उचित समझेंगे.

अब नये साल में कुछ तो ऐसा करना ही होगा कि कस्टमर्स को लुभाया जा सके. हालाँकि कंपनी की sturdy build quality, excellent dynamics, उम्दा फ्यूल एफिशियेंसी, top notch safety credentials जैसे गुणों के प्रशंसक बहुतेरे है

Volkswagen India ने स्पेयर पार्ट्स की कीमतों को किफायती बनाने की कवायद पिछले साल ही शुरू कर दी थी. 2019 के लिए कंपनी का लक्ष्य स्टैण्डर्ड वारंटी व फ्री रोड साइड असिस्टेंस सर्विस की अवधि दुगुनी करना है.

नये कस्टमर्स को इसका लाभ 4 year/100,000 km की स्टैण्डर्ड वारंटी (पुराने ऑफर में ये 2 years/unlimited km का था) और 4 साल का मुफ्त RSA (पूर्व में दो साल) के रूप में मिलेगा. ये नया पैकेज VW India के सभी मॉडल्स पर उपलब्ध होगा. यही नहीं आपको पहले साल में तीन फ्री सर्विस या up to 15,000 km भी ऑफर किया जा रहा है. 2018 की बात करें तो तब केवल पहली सर्विस(6 महीने या up to 6,500 km) ही फ्री थी. Volkswagen India ने रेगुलर सर्विस कोस्ट 24% से 44% तक घटाने का निर्णय भी लिया है.

देशभर में ऑथोराइज डीलरशिप्स पर सर्विसिंग के मामले में पारदर्शिता बढ़ाने के लिए कंपनी ने कीमत का सर्विस मेनू जारी किया है जिसमें सभी potential costs शामिल होंगी.

इस सेल्स पैकेज से भारतीय कस्टमर्स में Volkswagen कर प्रति ये विश्वसनीयता बढ़ेगी कि अब उन्हें किफायती सर्विसिंग मिल रही है. इस कदम से आगामी महीनों में सेल्स ग्रोथ बढ़ने की भी उम्मीद है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि Skoda ने भी ने भी पिछले साल वारंटी 4 years/100,000 km अपग्रेड की थी.

Volkswagen ने दिसंबर 18 में डबल डिजिट सेल्स डिक्लाइन दर्ज करवाई है. अगर दिसम्बर 17 की बात करें तो तब इसकी 3,335 यूनिट्स बिकी थी जो इस साल 15% घटकर 2,820 यूनिट्स रह गई है. अगर इसके विभिन्न मॉडल्स की सेल्स देखें तो भी निराशा ही हाथ लगेगी क्योंकि Polo की सेल्स में 11 परसेंट की गिरावट दर्ज हुई है. 1,569 यूनिट्स की सेल्स गिरकर 1,394 यूनिट्स ही रह गई हैं.

Ameo की सेल्स में भी 36 परसेंट की गिरावट आई है. दिसम्बर 17 में जहाँ 1,114 यूनिट्स बिकी थी, इस साल केवल 715 यूनिट्स ही बिक पाई है. Passat ने कंपनी को जरूर राहत दी है क्योंकि इसकी सेल्स sales have 53 से बढ़कर 102 यूनिट जो हो गई है. Tiguan के हालात तो और बदतर हो गए हैं जब इसकी इस दिसम्बर में मात्र 35 यूनिट्स ही बिक पाई. Vento की सेल्स में मामूली 5% का इजाफा हुआ है. पिछले साल दिसंबर में जहाँ 548 यूनिट्स बिकी वहीँ इस साल दिसंबर में 574 यूनिट्स की सेल्स दर्ज हुई है. Jetta व Beetle तो 2018 के शुरू में ही विदा हो गई थी.